माँ बहन की चुदाई कहानी Chudai ki kahani

हिंदी चुदाई की कहानियाँ,hindi sex stories,भाभी की चुदाई,xxx kahani behan ki chudai,बहन की चुदाई,sex story mummy ki mast chudai,माँ की चुदाई,sex kahani bhabhi ki xxx chudai,new chudai ki kahani baap beti ki xxx,desi devar bhabhi ki hot fuck story with xxx chudai ki photo,desi sex story didi ki bur chudai

दोनों पैरो को फैलाकर चूत में लंड़ डालकर चोदा

Hindi xxx Chudai Kahani,चुदाई की कहानियाँ,Desi xxx Chudai Hindi Sex Kahani,हिंदी चुदाई कहानी,कामुकता कहानी, प्यासी औरत की अन्तर्वासना की कहानियाँ,Chudai Ki Antarvasna xxx Hindi Sex kahani,Kamvasna xxx Desi kahani,
शानू एक जवान 22 साल की मस्त गदराई हुई गांड, बड़ी बड़ी चूची, रसीले होंठ और काली गुलाबी रसभरी चूत। शानू से मेरी मुलाकात पहली बार एक मॉल में हुई थी.. आज से ठीक 3 साल पहले मॉल में अपनी मोटी मोटी गांड मटकाती हुई घूम रही थी और सबके लंड में आग लगा रही थी। फिर मेरे लंड को ना जाने क्या सूझी और उसके पीछे पीछे चल दिया.. मुझे याद है वो त्यौहारों का समय था और मॉल में भीड़ बहुत ज़्यादा थी और वो आगे आगे और में उसके पीछे। तभी मौके का फायदा उठाते हुए मैंने उसकी गांड पर हाथ मसल दिया.. वाह! क्या मोटे चूतड़ थे उसके.. मेरे लंड में तो करंट ही दौड़ गया। शायद उसके चूतड़ में भी खुजली हुई और उसने अपनी ऊँगली को अपनी पेंटी के अंदर सेट किया.. फिर उसकी गांड की लकीर देखकर मुझे तो मेरी तक़दीर पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं हो रहा था। यह तो बस पहली मुलाक़ात थी और फिर बात बनती गई और हमारे लंड चूत का मिलन होता गया।
आज हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश हैं और एक दूसरे की चूत, गांड और लंड, बूब्स सबका बहुत ध्यान रखते हैं। मेरे पूरे मोहल्ले में मेरी चुड़क्कड़ जानू का चर्चा होता रहता है और हर कोई उसका नाम लेकर अपनी बीवियों और रंडियों को बहुत चोदता है। हमारी गली का हाल तो यह है कि धूप में सूखती हुई उसकी ब्रा पेंटी तक लोग चुरा ले जाते हैं। कोई मूठ मारकर उन्हे वापस हमारे घर पर फेंक जाता है तो कोई उन्हें काम में लेता रहता है और में तो ना जाने कितनी जोड़ी ब्रा पेंटी ला चूका हूँ और चुदाई के समय फाड़ भी चूका हूँ। वो खुद भी बहुत खरीद कर लाती है और यहाँ तक कि मेरे पिता जी भी मेरी शानू के नाम की ही मुठ मारते हैं और मुझे यह सब देखकर बहुत खुशी मिलती है.. मेरी जान बहुत मस्त है.. ऐसे ही किसी को अपने पास फटकने नहीं देती।ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।यह बात इसी साल की है.. सारा शहर नये साल की तैयारियों में डूबा पड़ा था और ना जाने मेरी चुड़क्कड़ जानू के मन में ना जाने क्या था? इस बार वो बाहर जाने की जिद भी नहीं कर रही थी.. वर्ना उससे बहुत पसंद है बाहर डिस्को जाना और क्योंकि वहाँ पर सभी लड़के उसको घूरते हैं और मौका मिलने पर हाथ भी डालते हैं। फिर उस दिन में सारा दिन घर पर ही था और शानू सूबह से ही नंगी घूम रही थी.. वो घर पर अधिकतर नंगी ही रहती है। तो मुझे जब भी मौका मिलता में उसकी चूची दबा देता या गांड में उंगली कर देता। तभी शाम होते ही मैंने मेरी जानू से कहा कि आज कहीं चलना नहीं है क्या? आज 31 दिसम्बर है और सारे मोहल्ले वाले सभी लोग बाहर गये हुए है कहीं ना कहीं घूमने.. तो क्या हम भी चलें? तभी उसने कहा कि नहीं.. मन नहीं है। आज हम घर पर ही नया साल मनाते हैं।

अब मुझे सुनकर बड़ी हैरानी हुई.. लेकिन जैसा मेरी बीवी कहेगी वैसा ही होगा.. तो मैंने वाईन की बॉटल निकाली और शानू के लिए एक पेग बना दिया और हम वैसे कुछ ख़ास पीते नहीं लेकिन आज सेलिब्रेशन के मूड में थे और उसने एक छोटी सी स्कर्ट पहनी थी.. जिसमे उसके चूतड़ नहीं छुप रहे थे और उसके नीचे जाली वाली पीले रंग की पेंटी चूतड़ो के बीच में चिपक रही थी और मोटे बूब्स उसके टाईट टॉप से बाहर निकलने को बैचेन थे। फिर मैंने अपने हाथों से उसको वाईन पिलाई और उसके होंठों को चूसने लगा। अब शानू की चूत में भी आग लगने लगी थी और उससे अब रहा नहीं जा रहा था। फिर उसने कहा कि जान चलो कहीं बाहर घूम कर आते हैं। में कार निकालने लगा.. लेकिन शानू ने कहा कि नहीं बाईक पर चलेंगे। मुझे तुम्हारे पीछे चिपककर बैठाना है।ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर में मुस्कुराया और मैंने बाईक निकाल ली उसने अपने चूतड़ उठाए औट बाईक की सीट पर रख दिए उसक मोटे मोटे बूब्स मुझे अपनी पीठ पर चुभते हुए महसूस हो रहे थे और मुझे बहुत मजा आ रहा था। लेकिन यह मजा जब तक में पूरा लेता.. उससे पहले सुनसान रास्ते पर दो पुलिस वालों ने हाथ देकर मुझे रुकने को कहा और मैंने तुरन्त ब्रेक लगाए और बाईक एक साइड में लगा दी। शानू अब भी नशे में थी। पुलिस वालों ने हमे घूरते हुए कहा कि कहाँ से अय्याशी करके आ रहा है तू और यह रंडी बैठा रखी है.. क्या चुदाई करने ले जा रहा है इसे? फिर मैंने गुस्से से कहा कि यह मेरी वाईफ है। फिर पुलिस वाला बोला कि तो साले मैंने कब कहा की ये मेरी है। तू रात को घूम रहा है.. क्या तुझे पता नहीं इतनी रात घूमना ठीक नहीं है और तुमने क्या दारू पी रखी है.. साले दारू पीकर गाड़ी चलाता है.. अंदर करूंगा.. उससे दूसरे पुलिस वाले से कहा कि अरे पाटिल इसको पकड़ कर चेक कर साले ने दारू पी रखी है। पंप ला और इसके मुँह में लगा और उस पुलिस वाले ने मेरे मुँह में चेक करने के लिए पंप लगाया और फिर उस पुलिस वाले ने कहा कि पाटिल दूसरा पंप और दे इस लड़की का भी मुहं चेक करना है।

पाटिल : पांडे यार दूसरा तो नहीं है एक इसके मुँह में दे रखा है।
पांडे : अच्छा लेकिन चेक तो करना पड़ेगा.. अभी देता हूँ इसके मुँह में पंप (हंसते हुए उसने अपना काला लंबा मोटा लंड मेरी बीवी शानू के मुँह में दे दिया) मेरी बीवी की तो साँस ही अटक गई और अंदर तक लंड उसके मुँह में घुस गया और उसकी आँखे बाहर आ गई। फिर में चिल्लाया यह क्या कर रहे हो? और पाटिल ने मुझे एक थप्पड़ मारा और कहा कि ज़्यादा मत बोल वरना अभी अंदर कर दूँगा.. समझा।पांडे : सुन लड़की चुपचाप यह लंड चूस वरना दोनों की खड़े खड़े यहीं पर गांड मार दूँगा और शानू ने मेरी तरफ देखा और उसे कोई रास्ता नज़र नहीं आया और उसने अपनी दोनों आंखे बंद की और लंड को पकड़कर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी। फिर पांडे उसके मुहं में लंड अंदर बाहर करने लगा.. अब शायद शानू को भी मजा आने लगा था.. काला लंड उसके मुँह में था और वो उसे लोलीपोप के जैसे चूस रही थी और अब मेरी और पाटिल की पेंट टाईट हो गई। फिर पाटिल ने भी अपना काला लंड बाहर निकाला और उसके मुँह में दे दिया वो एक साथ दो दो लंड चूस रही थी। अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था और में उसके पीछे जाकर उसके चूतड़ दबाने लगा और ज़ोर ज़ोर से उसकी चूचियाँ खींचने लगा.. वो तड़पने लगी और उनका लंड चूसने लगी और उसकी चूत टपकने लगी थी।ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर मैंने एक हाथ उसकी पेंटी में घुसा दिया और चूत मसलने लगा.. वाह! क्या नज़ारा था। में दबाए जा रहा था और वो लोग उसे लंड चुसाए जा रहे थे। तभी शायद रात के 12 बजे और आसमान में आतिशबाज़ी शुरू हो गई और नया साल आ गया था और साथ में उन दोनों के लंड का पानी भी शानू की चूंचियों पर गिरने लगा और में उसी पानी से उसकी चूचियों को मसल रहा था। दोनों पुलिस वाले झड़ चुके थे और फिर दोनों ने एक साथ कहा कि.. आह्ह्ह्ह हेप्पी न्यू ईयर ओफ्फ्फ।फिर पुलिस की गाड़ी पर वायरलेस पर मैसेज आने लगे तो दोनों ने हमसे रफूचक्कर होने को कहा और दारू पीकर गाड़ी ना चलाने की हिदायत दी.. लेकिन शानू अब भी गरम थी और मैंने शानू को आगे बैठाया और अपना लंड उसके हाथ में दे दिया और किक मारकर बाईक स्टार्ट की और वहाँ से निकल गया और सारे रास्ते में उसकी चूची को चूसता हुआ उन्हें खींचता हुआ घर पर आया और आते ही उसकी पेंटी फाड़कर चूत में घुस गया और सारी रात में उसकी चूत, गांड में घुसा रहा और वहीं ज़ोर ज़ोर से चूत चाटने लगा.. वो सिसकियाँ लेने लगी और मेरे सर को चूत पर जोर जोर से दबाती रही.. 10 मिनट चूत चाटने के बाद मैंने उसे लेटा दिया और चूत में लंड डालकर धक्के देने लगा अब मैंने उसकी नये साल की चुदाई शुरू कर दी और जोर जोर के धक्को के साथ जोर से कहता रहा.. हैप्पी न्यू ईयर.. मेरे लंड देवता घुस जा और फाड़ दे इसकी चूत.. आज अच्छे से नया साल मना दे हमारा।
फिर 20 मिनट की चुदाई के बाद में उसकी चूत में झड़ गया और उसके ऊपर सर रखकर ऐसे ही हम दोनों सो गये ।कैसी लगी सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NainaTiwari

The Author

कामुकता देसी चुदाई की कहानियाँ

अन्तर्वासना की सेक्स कहानी, देसी कामुकता कहानी, भाई बहन की चुदाई hindi story, माँ बेटे की सेक्स कहानी, बाप बेटी की सेक्स desi xxx kahani, brother sister sex indian xxx stories, chudai story, chudai kahani, sex kahan, hindi xxx story, chudai kahaniya, desi xxx kamukta story, हॉट कामसूत्र कहानी,
माँ बहन की चुदाई कहानी Chudai ki kahani © 2018 Frontier Theme