loading...
loading...
Home » , , , , , , , , » माँ बहन की एक साथ चुदाई की पारिवारिक कहानी

माँ बहन की एक साथ चुदाई की पारिवारिक कहानी

पारिवारिक चुदाई कहानी,Desi group sex hindi kahani,माँ और बहन की चुदाई की अनोखी कहानी,Parivarik sex kahani,भाई ने अपने मोटे लंड से माँ और बहन को एक साथ चोदा,Maa ki gand chudai aur behan ki choot chudai,Desi Kamukta Xxx Hindi Sex Story,Chudai Ki Story,

पहली रात को मैंने अपनी माँ की बहुत जमकर चुदाई की और उनकी चुदाई के मज़े लिए और उस चुदाई के समय अचानक से बहन ने अंदर आकर मुझे अपनी माँ के ऊपर चड़ते हुए धक्के देते मुझे देख लिया और वो हम दोनों को सेक्स करते हुए देखकर बहुत चकित थी, जिसके बाद वो उल्टे पैर अपने कमरे में चली गई और में अपनी चुदाई को खत्म करके अपने कमरे में उसके पास आकर सो गया। दोस्तों अब में अपनी आगे की कहानी को शुरू करता हूँ और आप सभी को पूरी तरह विस्तार से बताता हूँ कि मेरे साथ आगे क्या हुआ? दोस्तों अगले दिन से मेरी बहन मुझसे और में अपनी बहन से ना जाने क्यों आँख नहीं मिला पा रहा था? क्योंकि मुझे बिल्कुल भी नहीं पता था कि पिछली रात की उस चुदाई के समय मेरी बहन बीच में उठकर हमें वो काम करते हुए देख लेगी और हम पकड़े जाएगें?
Maa behan ki chudai parivarik kahani
माँ बहन की एक साथ चुदाई की पारिवारिक कहानी
तभी मेरी मम्मी भी आ गई और वो कहने लगी कि अरे तुम सुबह से उठे हो, लेकिन अभी तक नहीं नहाए हो चलो सब नहाते है। फिर मैंने और मेरी बहन ने कहा कि हाँ ठीक है और हम सभी नहाने बाथरूम के अंदर चले गए। हमने अपने कपड़े भी उतार दिए थे और में मेरी बहन और मेरी मम्मी ने कोई झिझक नहीं हुई। फिर तब मम्मी ने देखा कि में अपनी बहन से बात नहीं कर रहा हूँ। फिर वो मुझसे पूछने लगी कि क्या हुआ क्या बात है तुम दोनों एक दूसरे से बात क्यों नहीं कर रहे हो? तब मैंने कहा कि कुछ नहीं, तो उसी समय वो मुझसे पूछने लगी कि क्या कल रात की वजह से तुम दोनों ऐसे बैठे हो? मैंने कहा कि हाँ, तब उसी समय मेरी मम्मी ने मुझसे कहा कि क्या हुआ इतना समझदार होकर भी तुम ऐसे हो, चलो अब रोज़ की तरह नहाओ। अब मेरी बहन ने मेरे ऊपर पानी डाला और मैंने भी उसके ऊपर पानी डाल दिया। उसके बाद उसने मेरे बदन पर साबुन लगाया और तभी मेरा लंड उसने पकड़ लिया और वो उसको सहलाने लगी और खुश होकर बड़ी मस्त हो गई।फिर मैंने भी उसके गोरे, सेक्सी बदन पर साबुन लगाया और फिर में उसके बूब्स को दबाने लगा और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर लगा दिया। वो भी गरम हो गई और वो मुझसे बोली कि अब शरम छोड़ो क्या हम चुदाई नहीं कर सकते? फिर मैंने उससे कहा कि हाँ कर सकते है, लेकिन तुम उसके लिए पहले मम्मी से इजाजत ले लो।ये सेक्स कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मम्मी ने हमारी तरफ मुस्कुराते हुए देखकर कहा कि हाँ तुम वो सब कर लो, लेकिन कंडोम जरूर लगा लेना नहीं तो बहुत बड़ी समस्या हमारे सामने खड़ी हो जाएगी। फिर मैंने बहुत खुश होकर मम्मी से कहा कि हाँ ठीक है और उसी समय मैंने उनसे पूछा कि क्या कल रात को आपको मज़ा आया था? फिर वो बोली कि हाँ बहुत और अब में बाहर किसी और से अपनी चुदाई नहीं करवाया करूंगी जब मेरे घर में ही दो, दो लंड हैं तो मुझे बाहर जाकर किसी और के साथ मज़े नहीं लेना चाहिए। तभी मेरी बहन कहने लगी कि आज से मैंने भी एक फ़ैसला कर लिया है कि में अपनी शादी हो जाने के बाद भी पापा से और आपसे ही अपनी चुदाई करवाती रहूंगी। फिर मैंने कहा कि हाँ मैंने भी एक फ़ैसला किया है कि में भी मम्मी और तुम्हारी शादी होने के बाद भी तुम्हारी चुदाई लगातार करता रहूँगा और अब मम्मी ने कहा कि तुम्हारे पापा और मैंने भी फ़ैसला किया है कि जब तुम चाहो तब में तुमसे चुदाई करवा सकती हूँ और यह काम हम सभी मिलकर भी कर सकते है। फिर मैंने अपनी बहन की चूत में तेल लगाया और फिर मम्मी के पहले मैंने अपनी बहन की चूत में अपना लंड डालकर उसकी चुदाई करके उसकी चूत को शांत किया और चुदाई से पहले उसने मेरा लंड अपने मुहं में लेकर बहुत मज़े से किसी अनुभवी रंडी की तरह चूसा और मुझे बहुत मज़े दिये और फिर मैंने भी उसकी चूत को चूसकर मज़े लिए।

माँ की बहन के साथ चुदाई का खेल,सगी माँ और बहनों की चुदाई मनाली में, Desi chudai kahani,

फिर उसके बाद मैंने अपनी मम्मी की चुदाई भी शुरू कि तब मैंने महसूस किया कि मेरी बहन की चूत अभी भी बहुत टाइट थी और वो एकदम गरम भी थी। फिर उसी समय मेरी मम्मी ने हम दोनों से कहा कि अब कभी तुम दोनों बाहर जाकर सेक्स मत करना और तुम किसी लड़के से और किसी लड़की से चुदाई के मज़े मत करना। फिर उन दोनों की चुदाई खत्म होने के थोड़ी देर बाद में बाहर घूमकर आया और मैंने फिर से अपनी बहन से बोला कि मुझे आज तुम्हारी गांड मारनी है। फिर वो बोली कि नहीं रहने दो वरना मुझे बहुत दर्द होगा अभी तक मेरी गांड कुंवारी है। ये सेक्स कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।तब में बोला कि में बहुत आराम से करूंगा और तुम्हे पहली बार थोड़ा सा दर्द जरुर होगा, लेकिन फिर तुम्हे बड़ा मज़ा आएगा और धीरे धीरे तुम्हे इसकी भी आदत हो जाएगी और बाद में तो तुम्हे दर्द भी नहीं होगा और मज़ा भी बहुत आयगा और इतना कहने के बाद मैंने अपनी बहन की गांड पर तेल लगाया और अपनी एक उंगली को गांड के अंदर डाल दिया, वो चीख पड़ी आईईईई ऊउईईईइ माँ प्लीज मुझे दर्द हो रहा है। आप यह क्या कर रहे हो? धीरे धीरे उसको अंदर बाहर करके उसकी गांड को फैलाने लगा। फिर कुछ देर बाद मैंने उसको अपने सामने घोड़ी बना लिया और अपने लंड पर थोड़ा सा तेल लगाकर उसको बिल्कुल चिकना कर दिया। उसके बाद लंड को गांड के मुहं पर लगा दिया और ज़ोर लगाकर अंदर की तरफ धकेलने लगा और दर्द की वजह से वो बहुत ज़ोर से चिल्ला पड़ी आईईईईइ प्लीज बाहर निकालो इसको ऊऊईईईईईइ माँ मेरी फट गई उह्ह्हह्हहह थोड़ा धीरे से करो, मेरी गांड बहुत टाईट है आह्ह्हह्ह आराम से डालो वरना आज में मर ही जाउंगी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

दीदी की मदद से माँ की चुदाई,मम्मी ने कुवारी बहन की सील तुड़वाई,Desi xxx kahani,real chudai kahani

फिर मैंने फिर धीरे धीरे अपने लंड को उसकी गांड के अंदर डालना शुरू किया और फिर जब मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया तब मैंने बहुत ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर उसकी चुदाई के मज़े लिए और अब उसको भी मेरे धक्को से मज़ा आने लगा में उसके कूल्हों को अपने दोनों हाथों से पकड़कर जोरदार धक्के देकर चोदता रहा और कुछ देर बाद मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में डाल दिया और उसके बाद मैंने लंड को बाहर निकाला और में उसके ऊपर से हट गया। दोस्तों तब उस रात को हम तीनों ने मिलकर बहुत चुदाई के मज़े लिए और मैंने बारी बारी से उन दोनों को चोदकर बड़े मज़े लिए। एक दिन हम सभी घर वाले कहीं बाहर घूमने चले गये और हमारे बेग में कपड़े थे, लेकिन बाहर बड़ी जोरदार बारिश हो रही थी जिसकी वजह से हमारे सारे कपड़े भीग गये थे। फिर हमने एक होटल में रूम ले लिया क्योंकि वहां पर हमें करीब चार पांच दिन रुकना था इसलिए उसी रात को हम सभी ने यह फैसला किया कि हमारे सभी कपड़े तो भीग ही गये है इसलिए हम सभी बिना कपड़ो के एक ही रज़ाई में सो जाएँगे, ये सेक्स कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।क्योंकि हमारे पास इसके अलावा कोई और दूसरा रास्ता भी नहीं था। तब पापा मेरी बहन के साथ और में अपनी मम्मी के साथ एक रजाई में सो गया और रातभर हम सभी ने चुदाई के बहुत मज़े किए। हमने कभी चूत मारी तो कभी गांड और फिर कुछ घंटो बाद हमने बदलकर मेरी मम्मी, पापा के साथ और में मेरी बहन के साथ उसकी गरम गरम चूत की चुदाई के मैंने बहुत मज़े किए। फिर मैंने अपनी बहन की गांड भी मारी और रात को में ऐसे ही अपना लंड अपनी बहन की गांड के अंदर ही डालकर सो गया। दोस्तों हम सभी को वहां पर पूरे पांच दिन रुकना था और हम ज्यादा बाहर घूमने नहीं गए, बस दिन रात हमने चुदाई के मज़े लिए। दोस्तों में अपने पूरे परिवार को मन से बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहता हूँ, क्योंकि उसकी वजह से हमे कहीं बाहर नहीं भटकना पड़ा और हम अब रोज़ जब जिस समय दिन हो या रात जिसका भी दिल करता है उसके साथ चुदाई करते है, लेकिन हमने अब हमारी पढ़ाई भी बड़ी ज़ोर शोर से शुरू कर दी और पूरे स्कूल में हम फर्स्ट आए ।कैसी लगी मेरी माँ बहन की एक साथ चुदाई कहानी , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी बहन की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे ऐड करो Lund ki pyasi tadapti behan

1 comments:

loading...
loading...

चुदाई कहानी,Sex kahaniya,chudai kahani,mom ki chudai,didi ki chudai

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter