कुँवारी लडकी की चूत मारी

एक बार वह मेरे बाजू वाले कम्पयूटर पर बैठी थी, लेकिन उसके साथ उसकी एक सहेली भी बैठी थी और वह दोनों आपस में बात कर रहे थे, मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था कि वो मुझसे बात क्यों नहीं कर रही है, तो मैं वहाँ से उठकर उससे बिना कुछ बोलो, चला आया।शाम को उसका फोन आया – राहुल, तुम कितने खराब हो। बाय भी नहीं बोल सकते थे। वो बहुत रो रही थी, मैं समझ गया कि इसका दिल मुझ पर आ गया है। लेकिन अब तक हम दोनों में से किसी ने भी एक दूसरे को आइ लव यू नहीं कहा था।

जब वह रो रही थी, तो मैंने उससे कहा कि तुम रो क्यूँ रही हो?फिर मैंने उससे एक सवाल किया – तुम मुझे क्या मानती हो?उसने कहा – मैं तुमको अपना दोस्त मानती हूँ।मैंने उससे फिर एक सवाल किया – यदि, मेरी जगह तुम्हारी वो दोस्त होती जो कालेज में तुमसे बात कर रही थी, तब भी तुम रोतीं??
वो बोली – नहीं।मैंने मौका देखकर उसे आय लव यु कह दिया, तो वो मना करने लगी। लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था।मैंने भी मनवा ही लिया।दूसरे दिन उसने एक मन्दिर चलने को कहा, मन्दिर करीब 40 कि मी दूर था। हम उसकी एकटिवा में चले गये।जाते समय गाडी मैंने चलायी, तो कुछ हो ना सका। लेकिन लौटते वक्त गाडी उसने चलाने की ज़िद की। फिर वो एक सुनसान रास्ते से चलने लगी… मैं समझ गया, आज तो मुझे मिलने वाली है।पहले वो खुब नाटक कर रही थी, लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था। मैंने उसकी खुब चूचियाँ दबाई, वो गरम होने लगी और बोलने लगी – राहुल, धीरे करो ना… प्लीज़।फिर वो अजीब आवाजे निकालने लगी आ आ आ आ… आ्हण्ण्ण्ई ई ई् ण्ण्ण्इई ईइ ई…ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।लग रहा था, गाडी से गिरा ना दे… पर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। फिर वो बोलने लगी – राहुल, कुछ करो ना!! पर अब मैं भी क्या कर सकता था, बीच सड़क पर…मैंने रास्ते भर उसकी खुब चूचियाँ दबाई। कभी कभी तो चूत में भी हाथ फेर देता था।मेरा लण्ड तो ऐसे खडा था, जैसे मानो अभी उसकी चूत फाड देगा!!
ऐसा करते करते हम शहर पहुँच गये, तो फिर मौका ही नहीं मिल पा रहा था।रास्ते मे उसके पापा का फोन आया। कैसी लगी कुँवारी लड़की की चुदाई , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई कुँवारी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/HinaSharma

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter