रात भर आंटी ने मुझसे चुदवाया

मेरी फॅमिली के फॅमिली फ्रेंड में एक आंटी है दिव्या.. वो फॅमिली हम लोगो के काफी क्लोज है. दिव्या आंटी बहुत ही सुंदर और सेक्सी है. आप उन्हें गरम सेक्सी गुजरातन बोल सकते है. उनका फिगर करीब ३४-२८-३४ का होगा और उनकी ऐज ३६ के आसपास है. आंटी कि फॅमिली में उनके पति और दो बेटिया है. उनको देख कर लगता नहीं है, कि उनकी शादी को इतने साल हो गये है और उनकी दो बेटिया है. हम लोगो की फॅमिली का काफी मिलना जुलना था और इसी नाते से उनकी मुझसे काफी अच्छी दोस्ती हो गयी थी. हम लोग व्हाट्सएप पर अक्सर बातें किया करते थे. सिंपल बातें करते – करते, मैं उनसे फ़्लर्ट करने लगा था और फिर हम आगे बड़ते हुए, सेक्स कि बातें भी करने लगे थे. उनकी खूबसूरती और फिगर ने मुझे तो बस उनका दीवाना ही बना दिया था.

आंटी ने मुझसे चुदवाया
रात भर आंटी ने मुझसे चुदवाया

एक दिन की बात है, आंटी के साथ टेक्स्ट पर चैट हो रही थी. वो किसी कारण से सैड थी, मैंने उनसे पूछा, तो उन्होंने बताया, कि उनके हसबैंड को मेंटली कुछ प्रॉब्लम है और वो अक्सर डिप्रेशन में रहते है. वो इस वजह से सेक्स के लिए भी रेडी नहीं हो पाते है. मैंने मौका देखते हुए कहा – दिव्या आंटी, मैं हु ना.. आप परेशान क्यों होते हो? मैं आपको बहुत चाहता हु. (उनके लिए मेरी फीलिंग के बारे में, वो अंदाजा पहले से ही था). तद्से हमारी बाते सेक्स चैट ने ले ली थी. मैं उनके घर कभी भी पहुच जाता. मेरे घर में भी कोई दिक्कत नहीं थी. उनके घर पहुच कर, मैं उनसे लिपट जाता और किस भी कर लेता था. लेकिन उससे आगे कुछ करने का मौका अभी तक नहीं मिला था. ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।हम दोनों ही बुरी तरह से बेताब थे और एक अकेले मौके कि तलाश में थे.फिर वो मौका, हमे जल्दी ही मिल गया. एकदिन उसके हसबैंड बाहर टूर पर गये हुए थे और मैं इस मौके का फायदा उठाते हुए, उनके घर पहुच गया. उनकी लडकिया भी स्कूल गयी हुई थी. तब मैंने उन्हें किस किया और बाजु में दबोच लिया. वो किचन में थी और मैं उन्हें वहीँ खड़े होकर किस कर रहा था. वो आहे भर रही थी और मैं बूब्स को उनके टॉप पर से ही दबा रहा था. फिर उन्होंने कहा – चलो, बेडरूम में. तो मैंने उन्हें झट से अपनी गोद में उठा लिया और बेडरूम में ले गया. उन्हें बेड पर लिटा कर मैं उन्हें किस करने लगा था. मैं उनको किस करते – करते, उनकी टॉप के ऊपर से ही उनके बूब्स दबा रहा था. वो जोर से आहे भर रही थी.


तब मैं अपनी जीन्स और शर्ट निकाल दी और सिर्फ अंडरवियर में रह गया. मैं उनके ऊपर लेट गया और वो मेरे लौड़े को सहला रही थी और दबा रही थी. मेरा लौड़ा एकदम से तन कर खड़ा और कड़क हो चूका था. मैंने उन्हें इशारे से कहा, इसे निकालो.. और प्यार से सहलाओ. तो उन्होंने मेरी अंडरवियर नीचे कर दी और वो मेरे लौड़े को देख कर शौक हो गयी. वो बोली, कि कितना लम्बा और मोटा है.. आह मैं तुझे अपनी जान दे दूंगी. वो मेरे लौड़े को हिलाने लगी और मुझ में भर लिया. मेरा ७ इंच लम्बा और ३ इंच मोटा लौड़ा उनके मुह में भर गया और मैं उनके मुह को चोदने लगा. मैं उनके बालो को सहला रहा था और फिर एकदम से खीच कर उनके मुह को जोर – जोर से चोदने लगा.वो मजे लेकर चूस रही थी और ५-६ मिनट के बाद, मैंने उनको हटाया और उनके टॉप और पजामे को निकाल दिया. ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।वो सिर्फ ब्रा और पेंटी थी. मैंने उन्हें पहली बार ऐसे देखा था, तो मैं एकदम पगला गया. मैं जोर – जोर से उनके दूध दबा रहा था और उनकी ब्रा को निकाल कर उनके ३४ के बूब्स को चूस रहा था. वो मेरे सिर पर हाथ फेर रही थी और बालो को नोच रही थी. मैंने अपना दूसरा हाथ उनकी पेंटी में डाल दिया और उनकी चूत को सहलाने लगा. वो मज़े ले रही थी. उनकी चूत पूरी उनके पानी से गीली हो चुकी थी. मैंने अपनी ऊँगली डाल कर उन्हें मज़े दे रहा था. फिर मैं नीचे हुआ और उनकी पेंटी भी निकाल दी. उनकी चूत शेव थी और बहुत ही मस्त थी. आंटी तेज – तेज सांसे ले रही थी और मैं अपना मुह लगा कर उनकी पुसी से पुसी मिल्क पिने लगा.

आंटी की चिकनी चूत पर मेरी जीभ बहुत तेज चल रही थी और मैं मस्ती में उनको चाट रहा था. आंटी ने अपने हाथो से मेरे सिर को अपनी चूत में दबा रही थी और जोर – जोर से आहे भर रही थी.फक मी.. फक मी,,हहहहः अहहहहः राज मेरी जान अहहहः ऊऊओह्हह्हह मैं भी एक्साइट होकर आंटी की चूत में टंग डालने लगा. वो बहुत प्यासी थी. उनका पानी २ बार निकल चूका था और फिर मैंने उनकी लेग्स को अपने कंधो पर रख कर, अपने लंड को उनकी चूत पर सहला रहा था.वो अब बहुत जोर से मोअनिंग कर रही थी और पुरे बेडरूम में उनकी आवाज़े गूंज रही थी अहहहा अहहहः आआआआआआआआआअ … मैं अपने गरम लंड को उनके जी-स्पॉट पर मस्ती में रगड़ रहा था और अब जोर से तिलमिला रही थी और वो मुझसे मेरा लंड अब अन्दर डालने कि रिक्वेस्ट करने लगी थी. उन्होंने अब मेरे लंड से मेरा हाथ हटा दिया और मेरे लंड को खुद अपने हाथ में ले लिया. उन्होंने अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत पर सेट किया और मैंने फिर एक जोर का धक्का मारा. मेरा मोटा लंड उनकी चूत में पूरा चला गया. वो कहरा उठी और कहने लगी, आह जैसे पहली बार लंड ले रही हु.. बिलकुल वैसा अहसास हो रहा है. उनके पति का काफी पतला था और काफी छोटा भी. सही से खड़ा भी नहीं होता था. मैं एक्साइट हो कर उन्हें चोदने लगा. ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।जोर – जोर से शॉट लगाने लगा. करीब ३० मिनट की चुदाई में हम दोनों पसीने से लथपथ हो गये और मैं उनको किस कर रहा था और उनके बूब्स को दबाते हुए, उनकी चूत में अपने लंड को जोर – जोर से ठोक रहा था. अब मैं क्लाइमेक्स पर आ गया था और मैंने उनकी चूत में ही अपना पूरा माल छोड़ दिया. मैं उनके ऊपर लेट गया और बूब्स को मज़े से सहलाते हुए, उनको चूस रहा था. मुझे उनके चेहरे पर एक संतुष्टि भरी ख़ुशी नज़र आई.

मैं मन में सोच रहा था. जिस के लिए मैं मरे जा रहा था. वो इतनी बैचेन थी, मुझे नहीं पता था और मैंने आज उसको मस्त सेटइसफाई कर दिया. अभी तो मैंने केवल एक भी बार चुदाई की थी. मेरे लंड कि प्यास तो पूरी तरह से बुझी ही नहीं थी. मैंने अपने लंड को अपने हाथ से थोड़ी देर मसला और वो फिर से खड़ा हो गया. अब मैं बेड पर लेट गया और वो मेरे ऊपर आ गयी और उन्होंने अपनी चूत को मेरे लंड पर रख दिया और जोर – जोर से उछलने लगी. फिर मैंने आंटी को घोड़ी कि तरह चोदा. हमने करीब ३ घंटे तक जबरदस्त और ताबड़तोड़ चुदाई का मज़ा लिया. अब हम पति – पत्नी की तरह वयव्हार करते और जब भी मौका मिलता, तो हम लोगो कि चुदाई का सिलसिला जारी हो जाता. कैसी आंटी की चुदाई की कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी आंटी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/DiviyaSharma

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter